सत्रह मुखी रुद्राक्ष

17 Mukhi Natural Rudraksha
Share this to
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रुद्राक्ष शब्द दो शब्दों ‘रुद्र’ और ‘अक्ष’ से बना है जहां रुद्र भगवान शिव का नाम है और अक्ष का अर्थ है आंसू। रुद्राक्ष को प्राचीन काल से आभूषण के रूप में, सुरक्षा के लिए, ग्रह शांति के लिए और आध्यात्मिक लाभ के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। रुद्राक्ष भगवान शिव का प्रतिनिधित्व करता है। इसे धारण करने का अर्थ है देवो के देव महादेव का आशीर्वाद प्राप्त करना। हिंदू पौराणिक कथाओं में रुद्राक्ष का अत्यधिक महत्व है। इन्हें बेहद शक्तिशाली माना जाता है। रुद्राक्ष नकारात्मक ऊर्जाओं का सफाया करते हैं और उनके पहनने वाले की रक्षा करते हैं।

सत्रह मुखी रुद्राक्ष विश्वकर्मा का स्वरुप हैं।

सत्रह मुखी रुद्राक्ष ईष्‍ट देव कात्‍यायनी देवी हैं।

सत्रह मुखी रुद्राक्ष का स्वामी ग्रह शनि हैं।

राशि के अनुसार – सत्रह रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

लग्न के अनुसार – सत्रह रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

सत्रह मुखी रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र – ॐ विश्वकर्मणे नमः 

इस मंत्र का १०८ बार उच्चारण करके रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।

सावधान रहे – रत्न और रुद्राक्ष कभी भी लैब सर्टिफिकेट के साथ ही खरीदना चाहिए। आज मार्केट में कई लोग नकली रत्न और रुद्राक्ष बेच रहे है, इन लोगो से सावधान रहे। रत्न और रुद्राक्ष कभी भी प्रतिष्ठित जगह से ही ख़रीदे। 100% नेचुरल – लैब सर्टिफाइड रत्न और रुद्राक्ष ख़रीदे, अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें, नवग्रह के रत्न, रुद्राक्ष, रत्न की जानकारी और कई अन्य जानकारी के लिए। आप हमसे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते है

नवग्रह के नग, नेचरल रुद्राक्ष की जानकारी के लिए आप हमारी साइट Gems For Everyone पर जा सकते हैं। सभी प्रकार के नवग्रह के नग – हिरा, माणिक, पन्ना, पुखराज, नीलम, मोती, लहसुनिया, गोमेद मिलते है। 1 से 14 मुखी नेचरल रुद्राक्ष मिलते है। सभी प्रकार के नवग्रह के नग और रुद्राक्ष बाजार से आधी दरों पर उपलब्ध है। सभी प्रकार के रत्न और रुद्राक्ष सर्टिफिकेट के साथ बेचे जाते हैं। रत्न और रुद्राक्ष की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

सत्रह मुखी रुद्राक्ष कौनसे देवी-देवता का प्रतिक है?

सत्रह मुखी रुद्राक्ष विश्वकर्मा का स्वरुप हैं। सत्रह मुखी रुद्राक्ष ईष्‍ट देव कात्‍यायनी देवी हैं।

सत्रह मुखी रुद्राक्ष का स्वामी ग्रह कौनसा है?

सत्रह मुखी रुद्राक्ष का स्वामी ग्रह शनि हैं।

राशि के अनुसार सत्रह मुखी रुद्राक्ष किसको धारण करना चाहिए?

राशि के अनुसार – सत्रह रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

लग्न के अनुसार सत्रह मुखी रुद्राक्ष किसको धारण करना चाहिए?

लग्न के अनुसार – सत्रह रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

सत्रह मुखी रुद्राक्ष धारण करने मंत्र?

सत्रह मुखी रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र – ॐ विश्वकर्मणे नमः
इस मंत्र का १०८ बार उच्चारण करके रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।

असली सत्रह मुखी रुद्राक्ष कहा से ख़रीदे?

असली और सर्टिफाइड सत्रह मुखी रुद्राक्ष खरीदने के लिए सिर्फ जेम्स फॉर एवरीवन पर भरोसा करें। हमारे यहाँ आपको सभी प्रकार के रुद्राक्ष होलसेल भाव में मिल जाएंगे। अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें – 08275555557, 08275555507

सत्रह मुखी रुद्राक्ष खरीदने से पहले ये जरुर ध्यान दे?

रुद्राक्ष कभी भी लैब सर्टिफिकेट के साथ ही खरीदना चाहिए। आज मार्केट में कई लोग नकली रुद्राक्ष बेच रहे है, इन लोगो से सावधान रहे। रत्न और रुद्राक्ष कभी भी प्रतिष्ठित जगह से ही ख़रीदे। 100% नेचुरल – लैब सर्टिफाइड रुद्राक्ष खरीदें के लिए सिर्फ जेम्स फॉर एवरीवन पर भरोसा करें, अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें – 08275555557, 08275555507


Share this to
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Gems For Everyone Reviews Gems For Everyone Reviews Gems For Everyone Reviews Gems For Everyone Reviews कुंडली से लग्न की पहचान Rudraksha as Per Rashi – राशि के अनुसार रुद्राक्ष Rudraksha as Per Lagna – लग्न के अनुसार रुद्राक्ष Lagna as per Kundli Customer Reviews Customer Reviews