लग्न के अनुसार रुद्राक्ष का धारण कैसे करें

Rudraksha as per Lagna 1
Share this to
  • 145
  •  
  • 2
  • 1
  •  
    148
    Shares

लग्न, पंचम एवं नवम भाव सर्वाधिक बलशाली माना गया है। इसके लिये रुद्राक्ष को धारण किया जाना चाहिए।

रुद्राक्ष पर ग्रहों के साथ देवताओं का वास माना जाता है। कुंडली में त्रिकोण अर्थात लग्न, पंचम एवं नवम भाव सर्वाधिक बलशाली माना गया है। लग्न अर्थात जीवन, आयुष्य एवं आरोग्य, पंचम अर्थात बल, बुद्धि, विद्या एवं प्रसिद्धि, नवम अर्थात भाग्य एवं धर्म। अतः लग्न के अनुसार कुंडली के त्रिकोण भाव के स्वामी ग्रह कभी अशुभ फल नहीं देते, अशुभ स्थान पर रहने पर भी मदद ही करते हैं।

सावधान रहे – रुद्राक्ष कभी भी लैब सर्टिफिकेट के साथ ही खरीदना चाहिए। आज मार्केट में कई लोग नकली रुद्राक्ष बेच रहे है, इन लोगो से सावधान रहे। रुद्राक्ष कभी भी प्रतिष्ठित जगह से ही ख़रीदे। 100% नेचुरल – लैब सर्टिफाइड रुद्राक्ष ख़रीदे, अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

लग्न के लिए एक ग्रह ऐसा होता है जो योग कारक होने के कारण शुभ फलदाई होता है। यदि ऐसा ग्रह कुंडली में बलवान अर्थात् उच्चराशिस्थ, स्वराशिस्थ् का या वर्गोत्तमी होकर केन्द्र या त्रिकोण भाव में शुभ ग्रह के प्रभाव में स्थित हो व इस पर किसी भी पाप ग्रह का प्रभाव न हो तो यह अकेला ही जातक को उन्नति देने में सक्षम होता है,अतः इसका रत्न धारण करना विशेष शुभ फलदाई तथा चमत्कारी प्रभाव देने वाला होगा,परन्तु यदि यह अशुभ भाव में अशुभ ग्रहों के प्रभाव से ग्रस्त हो तो जातक इस योगकारक ग्रह के चमत्कारी प्रभाव से वंचित रह जाता है। ऐसी स्थिति में इसकी अशुभ भाव जनित अशुभता को नष्ट करने हेतु इसके लिये रुद्राक्ष को धारण किया जाना चाहिए।

मेष लग्न

मेष- लग्न के लिए सूर्य, चन्द्र मंगल व गुरु योग कारक ग्रह हैं। अतः इनके लिए माणिक्य, मोती, मूंगा व पुखराज धारण कर सकते हैं लेकिन मंगल अष्टमेश् है अतः मंगल के लिए 3 मुखी रुद्राक्ष स्वास्थवर्धक हो सकता है। गुरु के लिए द्वादशेष् होने के कारण पंचमुखी रुद्राक्ष धारण करना समृद्धि कारक होगा। बुध, शुक्र व शनि इस लग्न के लिए बाधा कारक हैं अतः इन ग्रहों के लिए रत्न धारण न कर 4 मुखी, 6 मुखी व 7 मुखी रुद्राक्ष धारण करना श्रेष्ठ है। यदि सूर्य, चन्द्र भी छठे, आठवें एवं बारहवें स्थान पर आ जाते हैं तो रत्न की अपेक्षा 1 मुखी व 2 मुखी रूद्राक्ष धारण करना ही श्रेष्ठ है।

वृष लग्न

वृष लग्न के लिए शनि, शुक्र व बुध योग कारक हैं इसलिए नीलम, हीरा व पन्ना पहनना आपके लिए शुभ है। अष्टमेष गुरु एवं द्वादशेष मंगल के अशुभ प्रभाव से मुक्ति हेतु 5 मुखी एवं 3 मुखी रूद्राक्ष धारण करें। सूर्य व चन्द्रमा भी इस लग्न के लिए बाधा कारक है इसलिए इनके लिए भी 1 मुखी व 2 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। शनि, शुक्र व बुध भी यदि छठे, आठवें या बारहवें स्थान पर आ जाते हैं तो रत्न की अपेक्षा 7, 6 व 4 मुखी रुद्राक्ष धारण करना ही श्रेष्ठ है।

मिथुन लग्न  

मिथुन लग्न के लिए बुध, शुक्र व शनि योग कारक हैं इसलिए आप पन्ना, हीरा व नीलम धारण कर सकते हैं परन्तु शुक्र द्वादशेश् व शनि अष्टमेश् भी है इसलिए इनका पूर्ण फल प्राप्त करने हेतु 4 मुखी रुद्राक्ष भी साथ में धारण करेंगे तो पूर्ण फल प्राप्त होता है। सूर्य, चन्द्रमा व मंगल की शुभता के लिए एक, दो व तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करें। गुरु के केन्द्राधिपति दोष के कारण गुरु का रत्न पुखराज अशुभफलदाई होता है अतः गुरु के शुभ फल हेतु रुद्राक्ष माला या पंचमुखी माला या पंचमुखी रुद्राक्ष धारण करें।

कर्क लग्न

कर्क लग्न के लिए चन्द्र, मंगल व गुरु योग कारक हैं इसलिए मोती, मूंगा व पुखराज धारण करना शुभ रहेगा परन्तु गुरु के षष्ठेष होने के अषुभ प्रभाव को कम करने हेतु साथ में पंचमुखी रुद्राक्ष भी धारण करना चाहिए। शनि, बुध, शुक्र इस लग्न के लिए अकारक हैं तथा सूर्य में मारक प्रभाव है अतः इनके लिए 7, 4, 6 व 1 मुखी रुद्राक्ष धारण करना ही बेहतर होगा। यदि चन्द्र, मंगल व गुरु भी अशुभ भाव में आ जाएं तो रत्न की अपेक्षा  2, 3 व पंचमुखी रुद्राक्ष पहनें।

सिंह लग्न

सिंह लग्न के लिए सूर्य व मंगल योग कारक हैं। अतः इनके लिए माणिक्य व मूंगा धारण करें। अष्टमेश गुरु, द्वादशेष चन्द्रमा तथा अकारक शनि, बुध व शुक्र के लिए 5, 2, 7, 4 व 6 मुखी रुद्राक्ष धारण करना शुभ रहेगा। यदि सूर्य व मंगल अषुभ भाव में स्थित हों तो इनके लिए भी 1 मुखी व 3 मुखी रुद्राक्ष ही धारण करना चाहिए।

कन्या लग्न

कन्या लग्न के लिए बुध, शुक्र व शनि योग कारक हैं इसलिए पन्ना, हीरा व नीलम धारण करना शुभ रहेगा परन्तु अष्टमेष शनि व द्वितीयेष शुक्र के लिए साथ में 7 व 6 मुखी रुद्राक्ष भी धारण करे। यदि बुध, शुक्र व शनि अशुभ भाव में बैठे हों तो रत्न की अपेक्षा रुद्राक्ष ही धारण करें। कन्या लग्न के लिए सूर्य, चन्द्र व मंगल अकारक हैं इसलिए इनकी शान्ति हेतु 1, 2 व 3 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। गुरु के केन्द्राधिपति दोष के निवारणार्थ पंचमुखी रुद्राक्ष या रुद्राक्ष माला धारण करना हितकर रहेगा।

तुला लग्न

तुला लग्न के लिए शुक्र, शनि व बुध योग कारक हैं इसलिए हीरा, नीलम व पन्ना धारण करें। अष्टमेश शुक्र व षष्ठेष बुध के लिए इनके साथ 6 व 4 मुखी रुद्राक्ष भी धारण करना चाहिए। सूर्य, चन्द्र, मंगल व गुरु इस लग्न के लिए अकारक हैं अतः इनके लिए रत्न की अपेक्षा 1, 2, 3 व 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। यदि शुक्र, शनि व बुध अशुभ भाव में बैठे हों तो रत्न की अपेक्षा 6, 7 व 4 मुखी रुद्राक्ष धारण करना ही उचित होगा।

वृश्चिक लग्न

वृश्चिक लग्न के लिए सूर्य, चन्द्र, मंगल व गुरु योग कारक हैं इसलिए इनके रत्न माणिक, मोती, मूंगा व पुखराज धारण करें। मंगल के षष्ठेष होने के अशुभ प्रभाव से मुक्ति हेतु 3 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। अकारक शनि, शुक्र व बुध के लिए 7, 6 व 4 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। यदि सूर्य, चन्द्र एवं गुरु अषुभ भाव में स्थित हों तो इनके लिए 1, 2 व 5 मुखी रुद्राक्ष ही धारण करें।

धनु लग्न

धनु लग्न के लिए गुरु, सूर्य व मंगल योग कारक हैं। अतः पुखराज, माणिक्य व मूंगा धारण करें। मंगल द्वादशेष भी है इसलिए 3 मुखी रुद्राक्ष पहनना भी आवश्यक है। अष्टमेश् चन्द्रमा के लिए 2 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। अकारक शुक्र, बुध व शनि के लिए 6, 4 व 7 मुखी रुद्राक्ष धारण करना शुभत्व देता है। यदि सूर्य, मंगल व गुरु अषुभ भाव में बैठे हों तो इनके लिए 1, 3 व 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करें

मकर लग्न

मकर लग्न के लिए शनि, शुक्र व बुध योग कारक हैं अतः नीलम, हीरा व पन्ना धारण करना चाहिए। सूर्य, चन्द्र, मंगल व गुरु इस लग्न के लिए अषुभ हैं अतः 1, 2, 3 व 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। यदि बुध, शुक्र व शनि अषुभ भाव में स्थित हों तो इनके लिए भी रत्न की अपेक्षा 4, 6 व 7 मुखी रुद्राक्ष धारण करें।

कुम्भ लग्न

कुम्भ लग्न के लिए शनि, शुक्र व बुध योग कारक हैं अतः नीलम, हीरा व पन्ना धारण करें। शनि द्वादषेष भी है और बुध भी अष्टमश का दोष होने से ग्रसित है इसलिए रत्नों के साथ 7 व 4 मुखी रुद्राक्ष धारण करें। सूर्य, चन्द्र, मंगल व गुरु अकारक हैं अतः इनका शुभ प्रभाव प्राप्त करने के लिए 1, 2, 3 व 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। यदि बुध, शुक्र व शनि अशुभ भाव में स्थित हों तो इनके लिए भी रत्न की अपेक्षा 4, 6 व 7 मुखी रुद्राक्ष धारण करें।

मीन लग्न

मीन लग्न के लिए शुक्र, बुध व शनि अषुभ हैं अतः इनके लिए 4, 6, व 7 मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। चन्द्र, मंगल व गुरु कारक हैं अतः इनके लिए मोती, मूंगा व पुखराज धारण करें। अषुभ भाव में स्थित होने की स्थिति में रत्न की अपेक्षा 2, 3 व 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करना शुभ रहेगा। षष्ठेष सूर्य का शुभ प्रभाव प्राप्त करने के लिए 1 मुखी रुद्राक्ष धारण करें।

अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें, नवग्रह के रत्न, रुद्राक्ष, रत्न की जानकारी और कई अन्य जानकारी के लिए। आप हमसे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते है

नवग्रह के नग, नेचरल रुद्राक्ष की जानकारी के लिए आप हमारी साइट Gems For Everyone पर जा सकते हैं। सभी प्रकार के नवग्रह के नग – हिरा, माणिक, पन्ना, पुखराज, नीलम, मोती, लहसुनिया, गोमेद मिलते है। 1 से 14 मुखी नेचरल रुद्राक्ष मिलते है। सभी प्रकार के नवग्रह के नग और रुद्राक्ष बाजार से आधी दरों पर उपलब्ध है। सभी प्रकार के रत्न और रुद्राक्ष सर्टिफिकेट के साथ बेचे जाते हैं। रत्न और रुद्राक्ष की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।


Share this to
  • 145
  •  
  • 2
  • 1
  •  
    148
    Shares
Gems For Everyone Reviews Gems For Everyone Reviews Gems For Everyone Reviews Gems For Everyone Reviews कुंडली से लग्न की पहचान Rudraksha as Per Rashi – राशि के अनुसार रुद्राक्ष Rudraksha as Per Lagna – लग्न के अनुसार रुद्राक्ष Lagna as per Kundli Customer Reviews Customer Reviews